Sunday, February 8, 2009

कैसे एक कामिक्स ने बदल दी जिंदगी.. "चुंबा का चक्रव्यूह"

जैसा मैंने पहले कहा था की मैं आने वाले पांच कामिक्स के साथ गुजारे हुये अपने जीवन के कुछ हसीन पल भी आप लोगों के साथ बाटूंगा और वैसा कुछ ही मैं इस कामिक्स के साथ भी करने के इरादे में था.. मगर मैं यह पोस्ट लिखता उससे पहले ही मुझे इस कामिक्स से संबंधित एक बहुत ही जबरदस्त कहानी आरकुट के एक कम्यूनिटी में मिल गई.. तो आज मैं आप लोगों के सामने ए.पी.दुबे जी की कहानी पेश कर रहा हूं.. मगर उससे पहले मैं आप लोगों के सामने इनका कुछ परिचय भी देता चलूं(जैसा मुझे इनके आरकुट प्रोफ़ाईल से मिला है)..

कामिक्स के बहुत बड़े पंखे(फैन) हैं यह महाशय.. बचपन से ही कामिक्स के दिवाने, खासकर के सुपर कमांडो ध्रुव के.. इन्होंने तो अपने होने वाले संतानों के नाम तक सोच लिया है(उसकी भी एक अलग कहानी है जो फिर कभी).. अगर लड़का हुआ तो ध्रुव और यदी लड़की हुई तो श्वेता(मेरे इस चिट्ठे को पढ़ने वाले कई पाठ्क ध्रुव के बारे में बहुत ज्यादा नहीं जानते हैं, सो उनके लिये यह जानकारी - ध्रुव की छोटी बहन का नाम श्वेता है).. यह अभी हाल फिलहाल में एक साईट भी शुरू किये हैं जिस पर आप यहां क्लिक करके पहूंच सकते हैं.. तो चलिये आज सुनते हैं इनकी दिलचस्प कहानी जो ध्रुव के कामिक्स चुंबा का चक्रव्यूह के साथ जुड़ी हुई है.. यह कहते हैं -



यह कहानी है तड़ित चालक के बारे में, जो मैंने ध्रुव के किसी कामिक्स में पढ़ा था.. ठीक-ठीक याद नहीं मगर शायद मैं आठवीं या नवमीं कक्षा में था जिस समय की यह घटना है.. हमारी शिक्षिका तडित चालक के बारे में हमें पढ़ा रही थे और उन्होंने कक्षा से पूछा, "कोई तडित चालक के बारे में जानता है?" मेरे और मेरे ही एक सहपाठी के अलावा और किसी ने हाथ नहीं उठाया..

हमारी शिक्षिका ने सबसे पहले मुझसे ही पूछा और मैंने उन्हें विस्तार पूर्वक बताया.. मेरे उत्तर से पूर्णतः संतुष्ट होने के बाद उन्होंने मुझसे पूछा की कहां से तुम्हें यह जानकारी मिली? मैंने बताया कि पिछले साल मैंने एक कामिक्स में इसके बारे में विस्तार से जाना था और उन्हें मेरी बातों पर भरोसा नहीं हुआ.. तब मेरे एक सहपाठि ने मेरी बातों का समर्थन किया जो अभी का मेरा सबसे अच्छा मित्र है.. और हमने कहा कि हम आपको कल यह सारी बात कामिक्स में भी दिखा देंगे..

अगले दिन मेरा मित्र उस कामिक्स के साथ विद्यालय आया लेकीन गणित के शिक्षक को एक लड़के ने बता दिया कि मेरा मित्र अपने स्कूल बैग में कामिक्स लेकर आया है.. हमारे गणित के शिक्षक ने हमें इसकी सजा देनी चाही मगर हम दोनों ही इसके लिये तैयार नहीं थे, क्योंकि हम दोनों की ही नजर में हमारी कोई गलती नहीं थी जो हम सजा भुगतते.. हमने कहा कि कृप्या हमारी विज्ञान की शिक्षिका को बुलाया जाये..

हमारे गणित के शिक्षक ने हमारी विज्ञान की शिक्षिका के साथ-साथ हमारे प्रधानाध्यापक को भी बुला लिया.. और उन सबके सामने हमने बताया कि हमने कहां से तडित चालक के बारे में पढ़ा था.. हमारी विज्ञान की शिक्षिका ने ना सिर्फ हमे शाबासी दी वरन् हमें पूरी कक्षा के सामने हीरो जसा बना दिया और वह भी प्रधानाध्यापक के सामने..

इन सब चीजों के परे, मुझे इस घटना से मेरा सबसे अच्छा मित्र मिल गया.. :)

आप इस कामिक्स को पढ़ने के लिए इस लिंक पर जाकर कामिक्स ऑर्डर कर सकते हैं..

आप भी तडित चालक के बारे में जानने के लिये पढ़ सकते हैं चुंबा का चक्रव्यूह, पृष्ठ नंबर 34.. :)

14 comments:

  1. Prashant bhai

    Thanks a lot

    dosto ye meri hi kahani hai aur isme 100% sacchai hai and mai aap sabhi se kahoonga ki agar aap comics nahi padhte hain to bhi dhruv ki koi bhi 5 comics utha kar padh lijiye aap bhi comics ki pankhe ban jayenge

    Prashant bhai ko ek aur bar thanks you very much

    ReplyDelete
  2. Good Experience and this exhibits ur boldness as well as ur frd ka bhi!!aap aur aapki dost prove ki hai ki, acche dost ka matlab kya hotha hai?? this is termed as True Friends!! jo mushkilo mein bhi saath nahi chodtha hai!! meri blog mein, ek hindi ka poem hai, title Dhara!! aap ek bar pado, jab bhi aap ko free tym milega aur uska ek article bhi likhi hu!! vo bhi more or less same hai!! Excellent Post...Keep Writing!! Keep It Up!!

    ReplyDelete
  3. u find her poem in older posts..Thanks for this awesome post..All The Very Best Success!!

    ReplyDelete
  4. गौतम राजरिशीFebruary 8, 2009 at 4:36 PM

    वाह क्या बात है प्रशांत जी...मजा आ गया इस संस्मरण को पढ़ कर

    ReplyDelete
  5. kamaal ka experience...tadit chaalak waali ghatna ke waqt Dhruv ye bhi bolta hai..."dekha padhayi likhayi kabhi bekaar nahi jaati" :)

    ReplyDelete
  6. But what is this तडित चालक? I still don't know. :-)

    ReplyDelete
  7. kya aap jaante hain ki Anurag Kashyap (Dev D ke director) Doga comics ke upar film bana rahe hain? :)

    ReplyDelete
  8. Hello friend!

    Check my another blog “History & Mythology” (http://hmindia.blogspot.com/), now it's open for all. Once I promised to post maximum numbers of Amar Chitra Katha & Tinkle. We’ll continue in style which is loved & recognized by friends.

    Thanks!

    ReplyDelete
  9. Hi Friends,
    I am collecting information on INDIAN COMICS .
    if you have any important information which would help me to increase my database information like address of comics Co
    .,ideas behind working of superhero's online link ETC than plz do mail it to me
    Thanking you
    yours, Usman Ali Khan
    usman.max@gmail.com
    http://indiacomic.blogspot.com/

    ReplyDelete
  10. Hello friends. I am Peeyoush from Mumbai, working in ICICI Bank, loan division.

    I am an avid reader and for a long time I am also enjoying the comics which some good people are putting on net for free. But visiting so many blogs on comics has been quite an excercise for me. I always felt there should be a single place from where all the comics could be downloaded. That would be very relieving for all the people who want to download these nice comics. So, the idea was born, and here I am with this special blog.

    Here I will provide a mirror site for comics posted on some blogs. I will try to update this blog on a daily basis. Here at one place you will find all that will be posted on different blogs. Hope everbody enjoys it.

    I am starting with comics posted today on following sites:

    http://mandrake-comics.blogspot.com/
    http://comic-guy.blogspot.com/
    http://ack-india.blogspot.com/
    http://theskullcavetreasures.blogspot.com/
    http://indrajal-comics.blogspot.com/
    http://thecomicproject.blogspot.com/
    http://anupam-agrawal.blogspot.com/
    http://hmindia.blogspot.com/
    http://thephantomhead.blogspot.com/
    http://dara-indrajal.blogspot.com/
    http://hindiindrajalcomics.blogspot.com/

    My sincere thanks are for all these wonderful people who are posting our favourite phantom comics and amar chitra kathas. If any other blog posts indrajal comics or amar chitra katha, it will be included here.

    please visit my blog:
    http://planet-comics.blogspot.com

    ReplyDelete
  11. all comics lovers are welcome
    http://sim786.blogspot.com/

    ReplyDelete
  12. STAR PRANAM APUN DHRUV KI COMIC S BACPAN PAD RAHA HAI APUN DHRUV KA BHUT HI BADA FAN HAI .APUN KI DHRUV SABSE BADA HERO HAI

    ReplyDelete
  13. Super Commander Dhruv ka comics padne pe bahut log kush hote hai. Par kyon yeh Dhoga ya Nagaraj ke jaise famous nahi huah yeh samaj nahi paa raha hoon.

    Shaayad inka scripting pe kuch fault tha.

    ReplyDelete
  14. Thanks ...waapas bachpan mein pahuncha diya aapne to..:):)

    abhi just..i had craving for Baankelal's Comics...and i bought one....even price mein bade changes ho gaye..normal comics jo hum 6 Rs mein lete the ab 15-20 Rs ki ho gayin...and Digest costs you 40-50 Rs...

    i remember...we used to run a library ...bahut si comics hotin thin....Krukbond se lekar Hawaldaar bahadur tak...aur Nagraj Dhruv se lekar Doga Parmaanu aur Bhokal tak.

    woh samay Digests ka tha..jisme do do Super Heros ek sath aaya karte the...aur hum bachche....use 'act' karte the...:D .......saare bachche ''ekanki'' ki tarah apna apna part nibhaya karte the....:D :P...

    Anyways..likhne baithi..to yahan jagah hi kam pad jaayegi........

    Thanks to you again.......bachpan k beete lamhe aapne mujhe lautaaye....:)

    Keep Writing.......
    With Best Wishes....

    Taru

    ReplyDelete