Sunday, August 17, 2008

आदमखोरों का स्वर्ग

आज बहुत दिनों के बाद थोड़े चैन और सकून के साथ बैठा नेट से खेल रहा था तो सोचा क्यों ना आप सभी को अपनी मनपसंद कामिकों में से एक पढा दूं.. ये कामिक सुपर कमांडो ध्रुव की तीसरी कामिक्स थी, जिसमें कल्पनाओं की उड़ान काफी ऊंची भरी गई थी.. एक जर्मन वैज्ञानिक कैसे अपने आविष्कार को पूरा करके आत्महत्या कर लेता है और फिर उसके 50 सालों के बाद वो गलत हाथों में चला जाता है..

आगे की कहानी पढने के लिये आप इस लिंक पर अपने माउस के बटन को क्लिक करें..
इसे पढने के लिये इस साफ्टवेयर का प्रयोग करें..

वैसे ये कामिक्स दो भागों में बंटा हुआ है जिसके लिये आपको इंतजार करना परेगा.. आज रात तक का.. मैं उसे आज रात सोने से पहले पोस्ट करता जाऊंगा.. :)

2 comments:

  1. बहुत लिंक बना देते हो मियां

    ReplyDelete
  2. आज रात सोने से पहले पेस्ट करता जाऊंगा.. :)
    भाई ये पेस्ट अभी भेज दो हमारी भी खतम हो गई है, हमेशाम को भी पेस्ट करने की आदत है :)

    ReplyDelete